Harbhajan Singh retires from all forms of cricket, such was the career of 23 years in cricket |  हरभजन सिंह ने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से लिया संन्यास , ऐसा रहा क्रिकेट में 23 साल का करियर – Bhaskar Hindi

0
185

[google-translator]

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टीम इंडिया के सीनियर ऑफ स्पीनर हरभजन सिंह ने शुक्रवार को क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास ले क्रिकेट की दुनिया को अलविदा कह दिया है। हरभन सिंह ने सोशल मीडिया पर ट्वीट करते हुए इसकी जानकारी दी है। इसके दौरान उन्होंने अपने  23 साल के करियर में 350 से ज्यादा इंटरनेशनल मैच खेले हैं।

41 साल की उम्र में उन्होंने क्रिकेट से संन्यास लेते हुए लिखा है की – सभी अच्छी चीजें  समय के साथ खत्म हो जाती है और आज में उस खेल से विदा लेना चाहता हूं जिसने मुझे जीवन में सब कुछ दिया है, मैं उन सभी को धन्यवाद देना चाहता हूं, जिन्होंने इस 23 साल की लंबी यात्रा को सुंदर और यादगार बनाया , आपका तहे दिल से शुक्रिया , आभारी।

क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास लेने के बाद अब हरभजन सिंह अगले आईपीएल में बतौर कोच या मेंटर  नजर आ सकते हैं। पिछले आईपीएल सीजन में हरभजन कोलकाता नाइट राइडर्स से जुड़े थे। वहीं हरभजन सिंह ने भारत के लिए अपना आखिरी इंटरनेशनल मुकाबला साल 2016 में UAE के खिलाफ टी-20 एशिया कप खेला था।

 रिपोर्ट्स के मुताबिक हरभजन सिंह किसी एक आईपीएल टीम के साथ कोच या मेंटर की भूमिका निभा सकते हैं। साथ ही आईपीएल के मेगा ऑक्शन में भी टीम के लिए वह अहम भूमिका निभा सकते हैं। हरभजन इसके पहले IPL में चेन्नई सुपर किंग्स और मुंबई इंडियंस के लिए खेलते नजर आए थे।

 भज्जी की टेस्ट क्रिकेट में शानदार हैट्रिक 

हरभजन सिंह की गिनती भारत के दिग्गज ऑफ स्पीनर के रूप में की जाती हैं। हरभजन ने अपनी गेंदबाजी से भारतीय टीम को कई मैच जीताए हैं। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 2001 में कोलकाता के ईडन गार्डन्स में खेले गए ऐतिहासिक टेस्ट मैच में हैट्रिक भी झटकी थी। हरभजन उस वक्त सिर्फ 21 साल के थे। लेग स्पीनर अनिल कुबंले के साथ उनकी जोड़ी नें इंडिया को कई मैचों में जीत दिलाई है। 2000 से 2010 तक हरभजन और अनिल कुंबले की जोड़ी नें भारतीय टीम में स्पीनर की मुख्य भूमिका निभाई। 
 
2011 विश्व कप का हिस्सा रहे हरभजन सिंह

भज्जी 2011 विश्व कप और 2007 टी-20 विश्व कप विजेता टीम के भी सदस्य रहे। उन्होंने 2011 के विश्व कप में 9 विकेट हासिल किए थे और 2007 टी-20 विश्व कप में 7 विकेट लेकर भारत को पहला विश्व टी-20 चैंपियन बनाने में अहम भूमिका निभाई थी। 

हरभजन सिंह का अंतरराष्ट्रीय करियर 

कुल टेस्ट: 103, विकेट: 417
कुल वनडे: 236, विकेट: 269
कुल टी-20: 28, विकेट: 25 

हरभजन सिंह का पहला और आखिरी मैच

पहला टेस्ट: बनाम ऑस्ट्रेलिया, 1998
आखिरी टेस्ट: बनाम श्रीलंका, 2015

पहला वनडे: बनाम न्यूजीलैंड, 1998
आखिरी वनडे: बनाम साउथ अफ्रीका, 2015

पहला टी-20: बनाम साउथ अफ्रीका, 2006
आखिरी टी-20: बनाम यूएई, 2016

आईपीएल करियर

कुल मैच: 163, विकेट: 150  

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here